यह कैसे संभव हो सकता है कि अंग्रेजी भाषा समस्त भारत की मातृभाषा के समान हो जाये? - चंद्रशेखर मिश्र।
वेडिंग ऐनिवर्सरी (कथा-कहानी)  Click to print this content  
Author:शिवानी खन्ना

“यार मोना समझा करो बॉस को क्या बोलूँ कि मेरी वेडिंग ऐनिवर्सरी है इसलिए टूर पर नहीं जा सकता!" सौरभ की आवाज़ थी।

“हाँ! क्यों? शर्म आती है! यह दिन सिर्फ़ मेरा है और मेरा हक़ है कि तुम अपना दिन मेरे साथ स्पेंड करो या 12 साल 2 बच्चों के बाद अब वो बात नहीं रही, मन भर गया!" मोना ने उलाहना देते हुए कहा।

“क्या बोले जा रही हो? यार काम से सब कुछ है अगर ये कॉन्ट्रेक्ट मिल गया तब सारा बोनस तुम्हारा और मैं शनिवार दोपहर तक आ जाऊँगा 14 की जगह 15 को मना लेंगे...."

बहस होती गयी आख़िर सौरभ कमरे में सोने चला गया।

थोड़ी देर टीवी पर चैनल अदल-बदल मोना भी सो गयी।

मोना उदास मन से सुबह बच्चों को बस स्टॉप छोड़ के दूध लेने चल पड़ी रास्ते में आरज़ू मिली।

“क्या हाल है मोना?" आरज़ू ने पूछा।

“सब ठीक तुम कहाँ चल दी, सुबह-सुबह?" मोना ने कहा।

“दरगाह जा रही हूँ, आज हमारी वेडिंग ऐनिवर्सरी है। अब मेजर ख़ान LOC पर है, उनकी सलामती का नेग देने जा रही हूँ। वो है तो हम है, अच्छा लेट हो जाऊँगी। शाम को पार्क में मिलते है। कहकर आरज़ू आगे बढ़ गयी।

मोना ने तेज़ी से क़दम घर की ओर बढ़ाए, सौरभ को चाय के साथ एक गुलाब देते हुए बोली, “कौनसे कपड़े ले जाने है? पैकिंग कर दूँगी।" खटे हुए उसने सौरभ के गले में अपनी बाँहें डाल दी।

-शिवानी खन्ना

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश