हिंदी भाषा को भारतीय जनता तथा संपूर्ण मानवता के लिये बहुत बड़ा उत्तरदायित्व सँभालना है। - सुनीतिकुमार चाटुर्ज्या।
कोरोना फिर कब आएगा  (कथा-कहानी)  Click to print this content  
Author:अनिता शर्मा की लघुकथा

सुमेल और राकेश की ड्यूटी स्लम एरिया में राशन बाँटने की लगी थी। बस्ती की सारी गलियों में राशन बाँटकर गाड़ी सड़क की ओर मोड़ ही रहे थे कि देखा पीछे से एक औरत बाबूजी, बाबूजी कहती हुई भागती आ रही थी। उसे देख सुमेल ने राकेश को गाड़ी रोकने के लिए कहा, वह औरत पास आई तो सुमेल ने कहा, "बीबी सारा सामान मिल तो गया है, कम से कम हफ़्ता-दस दिन चल जाएगा। अब और क्या चाहिए तुम्हें?"

"नहीं बाबूजी अपने लिए कछु नाहीं माँग रही।" उसने बाईं और इशारा करते हुए बताया,"उधर सीउर पाइप में तीन-चार दिन से आदमी-औरत दो जन आकर बैठा है, संग में तीन ठो बच्चा भी है। खाने को कछु है नाहीं, तनिक उधर देख लेते तो..."

सुमेल ने बाईं और नज़र मारी थोड़ी दूर मेन सीवरेज पाइप के ऊपर एक आदमी बैठा नज़र आया। सुमेल ने गाड़ी में से आटे-दालों के पैकेट उठाए और उस तरफ़ चल पड़ा। पास पहुँच कर देखा सीवरेज पाइप पर गठड़ी की तरह सिमटा हुआ एक मरियल सा आदमी बैठा है। पाइप के अंदर एक कंकाल नुमा औरत तीन नंग-धड़ंग बच्चों को अपने संग चिपटा कर बैठी सूनी आँखों से शून्य में ताक रही है। उसके पास जाने पर भी आदमी हिला नहीं, बच्चे अम्मा-अम्मा करते हुए माँ के पीछे छुपने की कोशिश करने लगे तो औरत को जैसे होश सा आया। उसे देखकर वह डर गई, हाथ जोड़ कुछ कहने लगी लेकिन सुमेल पहले ही बोल पड़ा, "बीबी यह कुछ सामान है, आटा-दालें, तेल, रख लो।"

"काहे ? हमें नहीं चइए ई सब, पइसा नहीं है हमरे पास," पाइप के ऊपर बैठा आदमी नीचे उतर कर कहने लगा।

"अरे पैसा नहीं देना पड़ेगा, सरकार बाँट रही है। लॉकडाउन लग गया है ना।"

"ऊ का होत है?"

"अरे भाई, कोरोना फैल गया है पूरी दुनिया में, भारत में भी आ गया है कोरोना। बचाव के लिए सरकार ने लॉकडाउन किया है।" बोलते-बोलते वह रुक गया, उसे लगा उसकी बात उनको समझ नहीं आ रही।

"चलो आप यह सामान रख लो।" तभी औरत बोल पड़ी, " बाबूजी, दुइ ठू रोटी है तो देइ दयो, बच्चे कल से भूखे हैं, हमरे पास पकाने का कोई साधने नहीं। " सुमेल ने ध्यान दिया उनके पास दो-चार खाली बर्तन के अलावा एक फटे से थैले में कुछ कपड़े दिखे। शायद यही पूँजी थी उनके पास, ग़रीबी की इससे ज़्यादा दर्दनाक तस्वीर कभी न देखी थी उसने। गले में गोला सा अटक गया, "वाहेगुरु कृपा करो!" बरबस ही उसके हाथ जुड़ गए। उसे याद आया उसने और राकेश ने रास्ते में दुकान खुली देखकर अपने-अपने घर के लिए ब्रेड, बिस्किट, नमकीन और एक-एक दर्जन फ़्रूटी ख़रीदी थी। वह गाड़ी की तरफ़ भागता हुआ गया और जाकर अपने थैले को उठाकर वापिस उसी तरह भागने लगा। राकेश ने पीछे से आवाज़ लगाई, " सरदार जी अब किधर?" वह अभी आया कहकर भागता हुआ वापिस वहीं पहुँचा और थैले से बिस्किट-ब्रेड वग़ैरह निकाल कर उनको देने लगा। ब्रेड को देख तीनों बच्चे उसपर टूट पड़े, बाकी सामान की तरफ़ देख उनकी सूखी सी आँखों में जैसे रोशनी जग उठी। उसने सारे थैले को वहीं खाली कर दिया। औरत ने हाथ जोड़कर माथे पर लगाए और उसके सामने झुक गई। आदमी फिर से गठरी हो उसके पैरों पे लोटने लगा, "आप तो साकसात ईसवर का रूप हो बाबूजी, क़सम से माई-बाप दो दिन से एक दाना नहीं गया पेट में। "

"अच्छा आटा- दाल रखो, कल स्टोव-सटूव का इंतज़ाम करता हूँ। वाहेगुरु भली करेगा।" कहकर वह वापिस मुड़ गया। पीछे से लड़के की चहकती हुई आवाज़ सुनाई दी... "अम्मा फिर कब आएगा इ किरोना ?"

"ओए तेरी कंजर दी, खोते दाँ पुत्तर ना होवे तां!" सुमेल की गर्दन पीछे घूमी साथ ही उसकी दमदार हँसी वातावरण में गूंज उठी। आँखों से टपकते आँसू मास्क के नीचे से होते हुए उसकी दाढ़ी में समाने लगे।

-अनिता शर्मा, चीन

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश