यह कैसे संभव हो सकता है कि अंग्रेजी भाषा समस्त भारत की मातृभाषा के समान हो जाये? - चंद्रशेखर मिश्र।
शेख चिल्ली की चिट्ठी (बाल-साहित्य )  Click to print this content  
Author:भारत-दर्शन संकलन

शेख चिल्ली का भाई उनसे दूर किसी अन्य गाँव में रहता था। किसी ने शेख चिल्ली को उनके बीमार होने की ख़बर दी तो उनकी ख़ैरियत जानने के लिए शेख ने अपने भाई को ख़त लिखने की सोची। उस ज़माने में डाकघर तो थे नहीं, लोग चिट्ठियाँ गाँव के नाई के हाथों या नौकर के हाथों भिजवाया करते थे।

शेख चिल्ली ने नाई से संपर्क किया लेकिन नाई बीमार था। फसल कटाई का वक़्त होने से कोई नौकर या मज़दूर भी खाली नहीं था। मियाँ जी ने तय किया कि वह ख़ुद ही चिट्ठी पहुँचाने जाएँगे। अगले दिन वह सुबह-सुबह चिट्ठी लेकर घर से निकल पड़े। शाम ढलते-ढलते वे अपने भाई के घर पहुँचे और उन्हें चिट्ठी पकड़ाकर लौटने लगे।

उनके भाई ने हैरानी से पूछा, "अरे! चिल्ली भाई! तुम वापिस क्यों जा रहे हो? क्या मुझसे कोई नाराजगी है?"

शेख चिल्ली के भाई ने यह कहते हुए उसे रोकते हुए, बैठने को कहा तो चिल्ली बोले, "भाई जान, ऐसा है कि मैंने आपको चिट्ठी लिखी थी। चिट्ठी ले आने को न नाई मिला और न कोई नौकर। इसलिए मुझे ही चिट्ठी देने आना पड़ा।

भाई ने कहा, "हाँ, वह तो ठीक है लेकिन जब आप आ ही गए हो तो दो-चार दिन ठहर कर जाओ।"

भाई की बात सुनकर शेख चिल्ली बिगड़ गए, मुँह बनाते हुए बोले तेज आवाज में बोले, "आप भी अजीब इंसान हैं। समझते ही नहीं! मैं तो सिर्फ नाई का फर्ज़ निभा रहा हूँ। मुझे आना होता और आपसे मिलना होता तो मैं चिट्ठी क्यों लिखता?" शेखचिल्ली अपने भाई से हाथ छुड़ा अपनी राह हो लिए।

[भारत-दर्शन संकलन]

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश