राष्ट्रभाषा के बिना आजादी बेकार है। - अवनींद्रकुमार विद्यालंकार
न्याय  (कथा-कहानी)  Click to print this content  
Author:रोहित कुमार 'हैप्पी'

एक खरगोश भेड़िये से तंग था। उसे किसी ने सलाह दी कि जंगल के 'प्रधान जी' से मिले।

भोला-भाला खरगोश 'प्रधान जी' से मिला। उसने 'प्रधान जी' को मदद की गुहार लगाई। उसकी भोली-भाली सूरत देखकर शेर को बड़ी दया आयी। 'इसकी मुलायम-मुलायम त्वचा कितनी स्वादिष्ट होगी!' दया सिसक उठी और-----!

- रोहित कुमार 'हैप्पी'

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें


Deprecated: Directive 'allow_url_include' is deprecated in Unknown on line 0