राष्ट्रीय एकता की कड़ी हिंदी ही जोड़ सकती है। - बालकृष्ण शर्मा 'नवीन'
अलविदा गूगल + (विविध)  Click to print this content  
Author:भारत-दर्शन समाचार

2 अप्रैल 2019 से गूगल + की सेवाएँ बंद हो रही हैं। भारत-दर्शन अपने 1,39,131 अनुसरणकर्ताओं को उनके असीम स्नेह के लिए अपना आभार व्यक्त करता है। कई चीजों पर आपका नियंत्रण नहीं होता - हमें खेद है कि इतनी उत्तम सेवा अब विराम ले रही है।

हमारा अपने गूगल + अनुसरणकर्ताओं से अनुरोध है कि कृपया twitter या facebook के माध्यम से संपर्क बनाए रखें:

https://twitter.com/rohit_k_happy

https://www.facebook.com/bharatdarshanhindi/

आप हमारी साइट के माध्यम से भी हमसे संपर्क कर सकते हैं:

https://www.bharatdarshan.co.nz

एक बार फिर, आप सभी का आभार।

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश