भाषा विचार की पोशाक है। - डॉ. जानसन।
अलविदा गूगल + (विविध)  Click to print this content  
Author:भारत-दर्शन समाचार

2 अप्रैल 2019 से गूगल + की सेवाएँ बंद हो रही हैं। भारत-दर्शन अपने 1,39,131 अनुसरणकर्ताओं को उनके असीम स्नेह के लिए अपना आभार व्यक्त करता है। कई चीजों पर आपका नियंत्रण नहीं होता - हमें खेद है कि इतनी उत्तम सेवा अब विराम ले रही है।

हमारा अपने गूगल + अनुसरणकर्ताओं से अनुरोध है कि कृपया twitter या facebook के माध्यम से संपर्क बनाए रखें:

https://twitter.com/rohit_k_happy

https://www.facebook.com/bharatdarshanhindi/

आप हमारी साइट के माध्यम से भी हमसे संपर्क कर सकते हैं:

https://www.bharatdarshan.co.nz

एक बार फिर, आप सभी का आभार।

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें