विदेशी भाषा के शब्द, उसके भाव तथा दृष्टांत हमारे हृदय पर वह प्रभाव नहीं डाल सकते जो मातृभाषा के चिरपरिचित तथा हृदयग्राही वाक्य। - मन्नन द्विवेदी।
 
कहावत | लघु-कथा (कथा-कहानी)     
Author:रोहित कुमार 'हैप्पी'

- कैंची मत बजाओ।

- क्यों?

- कहते हैं लड़ाई हो जाती है।

- पर...

- कहा न मत बजाओ।

- यहाँ और है ही कौन? लड़ाई किससे होगी?

  तड़ाक....त...ड़ा...क....

- जवाबतलबी करते हो!

#

-रोहित कुमार 'हैप्पी'

 

 

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश