जब हम अपना जीवन, जननी हिंदी, मातृभाषा हिंदी के लिये समर्पण कर दे तब हम किसी के प्रेमी कहे जा सकते हैं। - सेठ गोविंददास।
 

ज्ञानप्रकाश विवेक की ग़ज़लें

 (काव्य) 
 
रचनाकार:

 ज्ञानप्रकाश विवेक | Gyanprakash Vivek

प्रस्तुत हैं ज्ञानप्रकाश विवेक की ग़ज़लें !

Back
More To Read Under This
तमाम घर को .... | ग़ज़ल
किसी के दुख में .... | ग़ज़ल
तुम मेरी बेघरी पे...
वो कभी दर्द का...
 
Post Comment
 
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश