यदि पक्षपात की दृष्टि से न देखा जाये तो उर्दू भी हिंदी का ही एक रूप है। - शिवनंदन सहाय।
रात भर का वह गहरा अँधेरा (काव्य)    Print  
Author:शारदा मोंगा | न्यूजीलैंड
 

रात भर का वह गहरा अँधेरा,
गहन अवसाद था बहुतेरा,

रजनी चुपचाप अश्रु बहाती,
तुहिन कणों से धरा नहलाती,

अरुणिमा पूरब में छटी जब,
रात की गंभीरता घटी तब,

नवल अरुण की लालिमा ले,
गगन मुख मंडल मुस्काया,

नव दुल्हन सी प्रकृति सजी,
दिश दिशा अनुरंजित हो उठी,

नीडों में सिहरन लहरी,
खग चिरप चिरप चहचहाये,

मलयज के झोंकों से किसलय,
का आँचल डोला लहराया,

मदमत्त भ्रमर मधुर गुंजायें,
कोयलिया स्वर्गीय गीत गाए,

विहगों के दुदुम्भी नाद से,
वन उपवन निनादित सुगंधित,

स्वर्णिम रजत सलिल में उतर ,
सद्य स्नाता चंचल किरणें,

नृत्यांगना सी, चपल उर्मियाँ
ठुमुक ठुमुक कर नाच उठीं।

- शारदा मोंगा

 

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश