यदि पक्षपात की दृष्टि से न देखा जाये तो उर्दू भी हिंदी का ही एक रूप है। - शिवनंदन सहाय।
खिड़की बन्द कर दो (काव्य)    Print  
Author:गोपालदास ‘नीरज’
 

खिड़की बन्द कर दो
अब सही जाती नहीं यह निर्दयी बरसात-खिड़की बन्द कर दो।

यह खड़ी बौछार, यह ठंडी हवाओं के झकोरे,
बादलों के हाथ में यह बिजलियों के हाथ गोरे
कह न दें फिर प्राण से कोई पुरानी बात - खिड़की बन्द कर दो।

वो अकेलापन कि अपनी साँस लगती फाँस जैसी,
काँपती पीली शिखा दिखती दिये की लाश जैसी,
जान पड़ता है न होगा इस निशा का प्राप्त - खिड़की बन्द कर दो।

था यही वह वक्त मेरे वक्ष में जब सिर छिपाकर,
था कहा तुमने तुम्हारी प्रीति है मेरी महावर,
बन गई कालिख तुम्हें पर अब वही सौगात - खिड़की बन्द कर दो।

अब न तुम वह , अब न मैं वह, वे न मन में कामनायें,
आँसुओं में घुल गई अनमोल सारी भावनायें,
किसलिए चाहूँ चढ़े फिर उम्र की बारात - खिड़की बन्द कर दो।

रो न मेरे मन, न गीला आसुओं से कर बिछौना,
हाथ मत फैला पकड़ने को लड़कपन का खिलौना,
मेंह-पानी में निभाता कौन किसका साथ - खिड़की बन्द कर दो।

- गोपालदास 'नीरज'

 

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश