अपनी सरलता के कारण हिंदी प्रवासी भाइयों की स्वत: राष्ट्रभाषा हो गई। - भवानीदयाल संन्यासी।
अदम गोंडवी की ग़ज़लें (काव्य)    Print  
Author:अदम गोंडवी
 

अदम गोंडवी को हिंदी ग़ज़ल में दुष्यन्त कुमार की परंपरा को आगे बढ़ाने वाला शायर माना जाता है। राजनीति, लोकतंत्र और व्‍यवस्‍था पर करारा प्रहार करती अदम गोंडवी की ग़ज़लें जनमानस की आवाज हैं। यहाँ उन्हीं की कुछ गज़लों का संकलन किया जा रहा है।

Back
More To Read Under This

 

आँख पर पट्टी रहे | ग़ज़ल
हिन्‍दू या मुस्लिम के | ग़ज़ल
काजू भुने पलेट में | ग़ज़ल
घर में ठंडे चूल्हे पर | ग़ज़ल
जिस्म क्या है | ग़ज़ल
जो डलहौज़ी न कर पाया | ग़ज़ल
तुम्हारी फ़ाइलों में गाँव का मौसम गुलाबी है | ग़ज़ल
पहले जनाब कोई...
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश