यदि पक्षपात की दृष्टि से न देखा जाये तो उर्दू भी हिंदी का ही एक रूप है। - शिवनंदन सहाय।
हाइकु - रोहित कुमार हैप्पी (काव्य)    Print  
Author:रोहित कुमार 'हैप्पी' | न्यूज़ीलैंड
 

दोस्त है कृष्ण
तुम हर्जाना भरो
सुदामा बन!


#


राम बनना
डरना मत कभी
बनवास से!


#


हाथ थमाया
वो अपना बनाया
हाथ है, ना वो


#


चीर-हरण..
आँखें ढूंढ रही हैं...
कहाँ हो कृष्ण?


#


है मधुमास
आंखे गंगा-जमुना
सीया उदास


#


भूख-बेकारी
बड़े-बड़े सपने
सामने बैंक


#


नशे में धुत्त
मंडे टू संडे - रोज
वो समदर्शी


#


बैंक बैलेस
कोठी, बंगला, कार
उड़े हैं बाल


#


है सप्ताहांत
पार्टी...डिस्को...खिसको
ये अभिमन्यु


#


पेड़ पे काग
शायद कोई आया
डाकिया-बिल


#


होंठ हैं चुप्प
रात अंधरी घुप्प
नयना बोले


#


होली, दीवाली
दिल है खाली-खाली
ये है विदेस


#


आँखों में नमी
बेगाना कोई घर
कहाँ है अम्मी


#


बूढ़ा शरीर
कुछ ताजे सपने
टूटा है दिल


- रोहित कुमार हैप्पी

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश