इस विशाल प्रदेश के हर भाग में शिक्षित-अशिक्षित, नागरिक और ग्रामीण सभी हिंदी को समझते हैं। - राहुल सांकृत्यायन।
नहीं होता मित्र राजधानी में (काव्य)    Print  
Author:जयप्रकाश मानस | Jaiprakash Manas
 

मित्र
होता है हरदम
लोटे में पानी – चूल्हे में आग
जलन में झमाझम – उदासी में राग

दुर्दिन की थाली में बाड़ी से बटोरी हुई उपेक्षित भाजी-साग
रतौंदी के शिविर में मिले सरकारी चश्मे से
दिख-दिख जाता हरियर बाग

नहीं होता मित्र राजधानी में
नहीं होता मित्र चिकनी-चुपड़ी बानी में

वह तो लोक में आलोक है
वेद है, मंत्र है, श्लोक है
आँख है कान है नाक है
जीभ है खोपड़ी को फाड़ कर निकल आता वाक् है

होता यदि मित्र एक अदद –
न कहीं कविता होती
होता यदि मित्र एक अदद –
यूँ ही नहीं उदास सविता होती

मित्र गिलहरी है, घास है
मित्र तितली है, अमलतास है

मित्र है तो दुनिया है

जैसे गणित की परीक्षा में
मुफ़्त में कंपास है, परकार है, गुनिया है।

-जयप्रकाश मानस
भारत

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश