अपनी सरलता के कारण हिंदी प्रवासी भाइयों की स्वत: राष्ट्रभाषा हो गई। - भवानीदयाल संन्यासी।
बात मेरी नहीं मानी... | ग़ज़ल  (काव्य)    Print  
Author:त्रिलोचन
 

बात मेरी नहीं मानी नहीं मानी तुम ने 
जी में जो बात बसी थी वही ठानी तुम ने

मेरा क्या, बात कही और लगा अपनी राह 
अपने आगे किसी की बात न जानी तुम ने

बात बिगड़ी तो बिगड़ती ही गई वन न सकी
गो बनाने में किया खून का पानी तुम ने

विश्व को छत का सुदृढ़ स्तंभ जिन्हें समझा था
देखा है अपनी ही आँखों उन्हें फ़ानी तुम ने

मान वह वस्तु नहीं है जो तुम्हारी हो हो
और भी देखे हैं मन के कई मानी तुम ने

प्रेम जो जी में जगा तो विराग ले बैठे 
ख़ाक दुनिया की इसी लाग में छानी तुम ने

साधना क्या है त्रिलोचन तुम्हें मालूम ही है
देखते भी हो सुनी भी है कहानी तुम ने

-त्रिलोचन 

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश