यदि पक्षपात की दृष्टि से न देखा जाये तो उर्दू भी हिंदी का ही एक रूप है। - शिवनंदन सहाय।
लेखक पर दोहे (काव्य)    Print  
Author:प्रो. राजेश कुमार
 

लेखक का गुण एक ही करै भँडौती धाय।
पुरस्कार पै हो नज़र ग्रांट कहीं मिल जाय॥

तू लिख तारीफ़ मैं और करैं विपरीत।
लेखन ऐसे ही चलै गाल बजावन रीति॥

रोज़ चार कर काव्य सृजन एक व्यंग्य को खींच।
फ़ेसबुकवा पै छाप कै बड़ौ रचक बन लीज।।

कालजयी रचना करत गुणवत्ता पै ध्यान।
कागज़ काले कर बढ़ै तू पीछे छुट जान॥

चाहे लिखते श्रेष्ठ पर दूजन गुट का होज।
कूड़ा वा साबित करौ एड़ी चोटी ओज॥

लेखक बड़ बनना चहै दाढ़ी कुरता लेय।
यार कलब मैं बैठि कै धुआँधार करि देय॥

भाषा जानत है नहिं नहीं ध्यान में कथ्य।
लेखक इतने आ गये पाठक एक न रथ्य॥

अफ़सर बड़े रसूख के रचते भर भर काव्य।
हाथ बाँधि छापक खड़ा टेंडर पास कराव्य॥

-प्रो॰ राजेश कुमार

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश