अपनी सरलता के कारण हिंदी प्रवासी भाइयों की स्वत: राष्ट्रभाषा हो गई। - भवानीदयाल संन्यासी।
कोई बारिश पड़े ऐसी... | ग़ज़ल (काव्य)    Print  
Author:संध्या नायर | ऑस्ट्रेलिया
 

कोई बारिश पड़े ऐसी, जो रिसते घाव धो जाए
भले आराम कम आए, ज़रा सा दर्द तो जाए

बहुत चाहा कभी मैंने, मेरी मर्ज़ी चले थोड़ी
यही मर्ज़ी है अब मेरी, जो होना है,सो हो जाए

बड़ी छोटी थी वो ख्वाहिश, जिसे दिल में जगह दी थी
नहीं मालूम था सरसब्ज़, कितने बीज बो जाए

न जाने कौन सी मंज़िल है, जो चुंबक सरीखी है
कि खिंचता जा रहा है वो, मेरे आगे से जो जाए

कहां तक बोझ इस दिल का मेरी नज्में उठाएंगी
है जिसका बोझ वो जाने, गिराए या कि ढो जाए

सुना ऐसी भी जन्नत है, जो खुलती है गरीबों पर
फटी बस जेब से गिरकर अगर चाभी न खो जाए

ये यादों की निगेहबानी में अब लगता नहीं है दिल
खुला छोड़ा है दरवाज़ा, जिसे जाना हो ,वो जाए

किया सब कुछ बयां मैंने, जो कहना था ,कहा मैंने
कि अब कागज़ की करवट पर,मेरी तहरीर सो जाए

कोई सूरज को समझाए, मुहब्बत में तपिश रक्खे
बुझा सा दिल लिए, मिलने न अपनी 'शाम' को जाए

-संध्या नायर
ऑस्ट्रेलिया

 
Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश