भारतीय एकता के लक्ष्य का साधन हिंदी भाषा का प्रचार है। - टी. माधवराव।
सबके अपने-अपने ग़म (काव्य)    Print  
Author:रेखा राजवंशी | ऑस्ट्रेलिया
 

सबके अपने-अपने ग़म
कुछ के ज़्यादा, कुछ के कम

दिल पे ऐसी गुज़री है
आँख भरीं, पलकें हैं नम

अब के भी तुम न आए
बीत गए कितने मौसम

तारा कोई टूटा है
फिर से है चश्मे पुरनम

कोई तो बादल बरसे
बन जाए दर्दे मरहम

कुछ ऐसी भी बात करो
मिल जाए लुत्फ़-ए-पैहम

दिल की दिल से राह बने
कुछ ऐसा भी हो आलम

- रेखा राजवंशी
  ऑस्ट्रेलिया

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश