यदि पक्षपात की दृष्टि से न देखा जाये तो उर्दू भी हिंदी का ही एक रूप है। - शिवनंदन सहाय।
दूर गगन पर | गीत  (काव्य)    Print  
Author:अनिता बरार | ऑस्ट्रेलिया
 

दूर गगन पर सँध्या की लाली
सतरंगी सपनों की चुनरी लहरायी
आँचल में भरकर तुझे ओ चंदा
चाँदनी बनकर मैं मुस्करायी
दूर गगन पर----

सँध्या के घूँघट में चंदा ये पुरनम,
सागर के आँचल में लहरों की धडकन
साँसों में छायी वीणा की सरगम
प्राणों में बिखरी मासूम शबनम
दूर गगन पर----

अलसाये यौवन पर छायी खुमारी
स्वपलिन आँखों में चाह तुम्हारी
चूड़ी खनखन प्रीत जगाती
पायल रुनझुन गीत सुनाती
दूर गगन पर----

आओ हम इक स्वर्ग बनाये
बाहों में आकर प्यास बुझाये
जीवन भर जो भूल न पाये
ऐसा गीत गले मिल गायें
दूर गगन पर----


- अनिता बरार
   ई-मेल: anita.barar@gmail.com
   (सी डी संकलन - दूरियाँ, 2000)

 

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश