यदि पक्षपात की दृष्टि से न देखा जाये तो उर्दू भी हिंदी का ही एक रूप है। - शिवनंदन सहाय।
हम दुनिया की शान (काव्य)    Print  
Author:डॉ रमेश पोखरियाल निशंक
 

हिदुभूमि के निवासी, हम दुनिया की शान हैं।
रंग-रूप सब भिन्न-भिन्न पर
राष्ट्र मन सब एक हैं,
भाव सभी के एक सरीखे
भाषा चाहे अनेक हैं।
हम परहित न्यौछावर होकर जीवन देते दान हैं
हिदुभूमि के निवासी हम दुनिया की शान हैं।

लक्ष्य रहा सर्वोच्च हमारा
और इरादे नेक हैं,
हिद देश के निवासी
हम सभी एक हैं।
हम भारत के मानबिंदु का करते नित सम्मान हैं,
हिदुभूमि के निवासी हम दुनिया की शान हैं।

शक्ति-शील-सौंदर्य लिए
निर्बल को दिया सहारा है,
‘सर्वे भवन्तु सुखिनः' का
रहा हमारा नारा है।
देशहित बलिदान दिए जाने के हमारे गान हैं,
हिदुभूमि के निवासी हम दुनिया की शान हैं।

-रमेश पोखरियाल ‘निशंक'
[मातृभूमि के लिए]

 

 

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश