इस विशाल प्रदेश के हर भाग में शिक्षित-अशिक्षित, नागरिक और ग्रामीण सभी हिंदी को समझते हैं। - राहुल सांकृत्यायन।
जीवन (काव्य)    Print  
Author:नरेंद्र शर्मा
 

घडी-घड़ी गिन, घड़ी देखते काट रहा हूँ जीवन के दिन 
क्या सांसों को ढोते-ढोते ही बीतेंगे जीवन के दिन? 
सोते जगते, स्वप्न देखते रातें तो कट भी जाती हैं, 
पर यों कैसे, कब तक, पूरे होंगे मेरे जीवन के दिन?

कुछ तो हो, हो दुर्घटना ही मेरे इस नीरस जीवन में।
और न हो तो लगे आग ही इस निर्जन बाँसी के बन में। 
ऊब गया हूँ सोते-सोते, जागें मुझे जगाने लपटें, 
गाज़ गिरे, पर जगे चेतना प्राणहीन इस मन-पाहन में !

हाहाकार कर उठे आत्मा, हो ऐसा आघात अचानक।
वाणी हो चिर-मूक, कहीं से उठे एक चीत्कार भयानक।
वेध कर्णयुग बधिर बना दे उन्हें चौंक आँखें फट जाएँ
उठे एक बालोकआलोक झुलसता (रवि ज्यों नभ मे) वह दृग-तारक।

कुछ न हुआ! भूगर्भ न फूटा। हाय न पूरी हुई कामना।
आँखों का अब भी दीवारों से होता है रोज़ सामना।
कल की तरह आज भी बीता, कल भी रीता ही बीतेगा,
बिना जले ही राख हो गई धुनी रूई-सी अचिर कल्पना ।

- नरेन्द्र शर्मा

 

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश