अपनी सरलता के कारण हिंदी प्रवासी भाइयों की स्वत: राष्ट्रभाषा हो गई। - भवानीदयाल संन्यासी।
लेनदेन (कथा-कहानी)    Print  
Author:खलील जिब्रान
 

एक आदमी था। उसके पास सुइयों का इतना भण्डार था कि एक घाटी उनसे भर जाए।

एक दिन यीशु की माँ उसके पास आई और बोली, "मित्र! मेरे बेटे के कपड़े फट गए हैं। उसके मंदिर जाने को तैयार होने से पहले मुझे उन्हें सुई से टांकना है। क्या आप मुझे एक सुई देंगे?"

उसने उसे सुई तो नहीं दी लेकिन 'लेनदेन' पर एक विद्वत्तापूर्ण प्रवचन अवश्य दिया। उसने सुझाव दिया कि वह अपने बेटे को मंदिर जाने से पहले उसका व्याख्यान अवश्य सुनाए।

-खलील जिब्रान

[On Giving and Taking, The Madman: His Parables and Poems by Kahlil Gibran]

भावानुवाद - रोहित कुमार 'हैप्पी'

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश