भाषा विचार की पोशाक है। - डॉ. जानसन।
सदुपदेश | दोहे  (काव्य)    Print  
Author:गयाप्रसाद शुक्ल सनेही
 

बात सँभारे बोलिए, समुझि सुठाँव-कुठाँव ।
वातै हाथी पाइए, वातै हाथा-पाँव ॥१॥

निकले फिर पलटत नहीं, रहते अन्त पर्यन्त ।
सत्पुरुषों के वर-वचन, गजराजों के दन्त ।।२।।

सेवा किये कृतघ्न की, जात सबै मिलि धूल ।।
सुधा-धार हू सींचिये, सुफल न देत बबूल ।।३।।

काहू की मुसकानि पर, करियो जनि विश्वास ।
है समर्थ संसार मे, विज्जुलता को हास ।।४।।

चारि जने हिलि मिलि रहे, तबही होत सरङ्ग ।
खैर सुपारी चून ज्यों, मिलत पान के सङ्ग ।।५।।


- गयाप्रसाद शुक्ल 'सनेही'
  [ कुसुमाञ्जलि ]

 

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें