हिंदी चिरकाल से ऐसी भाषा रही है जिसने मात्र विदेशी होने के कारण किसी शब्द का बहिष्कार नहीं किया। - राजेंद्रप्रसाद।
गिरमिट दिवस | 14 मई
 
 

Leonidas Ship arrived in Fiji on 15 May 1879

भारत से फीज़ी आने वाला पहला जहाज था लियोनिडास जो 498 मज़दूर सवारियों को लेकर 3 मार्च 1879 को कलकत्ता से रवाना हुआ और 72 दिन की समुद्री यात्रा के पश्चात 14 मई 1879 को यह जहाज फीज़ी के बंदरगाह पर पहुँचा। इन 498 सवारियों में 273 पुरूष, 146 महिलाएं व 79 बच्चे सम्मिलित थे।  72 दिनों की इस समुद्री यात्रा के दौरान 17 यात्रियों की बीमार पड़ने से मृत्यु हो गई।

1879 से 1916 के बीच 87 बार भारत से समुद्री जहाज बंधुआ मज़दूरों को फीज़ी लेकर आए जिसमें 42 विभिन्न जहाजों का उपयोग हुआ था। कुल 60,995 लोगों ने फीज़ी के लिए प्रस्थान किया किंतु कुल 60,553 ही फीज़ी पहुँच पाए, इनमें यात्रा के दौरान पैदा हुए कुछ नवजात शिशु भी सम्मिलित थे। शेष काल की गर्क में चले गए।

फिर शुरू हुआ इन भोले-भाले लोगों का गिरमिटिया जीवन। गिरमिट अँग्रेज़ी शब्द 'एग्रीमेंट' का अपभ्रंश है। शुरुआत में आये ये लोग पढ़े-लिखे न थे यथा 'एग्रीमेंट' की जगह 'गिरमिट' शब्द प्रचलित हो गया।

जनवरी 1920 को 'अनुबंधित श्रमिक प्रथा' का अंत हो गया।

[इतिहास के पन्नों से]

 
 

Comment using facebook

 
 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
 
 
  Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.

भारत-दर्शन रोजाना

Bharat-Darshan Rozana

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें