भारतीय एकता के लक्ष्य का साधन हिंदी भाषा का प्रचार है। - टी. माधवराव।

दूधनाथ सिंह

दूधनाथ सिंह का जन्म 17 अक्टूबर, 1936 को उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के एक छोटे-से गाँव सोबन्था में हुआ था।

शिक्षा: आपने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से हिन्दी साहित्य में एम.ए की थी।

कुछ दिनों (1960-62) तक कलकत्ता में अध्यापन किया। फिर इलाहाबाद विश्वविद्यालय, हिन्दी विभाग में रहे। लगभग 1960 से लेखन आरम्भ किया। आपने उपन्यास, आलोचनात्मक लेख, कविताएँ, कहानियाँ, संस्मरण इत्यादि विधाओं में सृजन किया।

निधन : 12 जनवरी, 2018 को इलाहाबाद में आपका निधन हो गया।

कृतियाँ :

उपन्यास : आखिरी कलाम, निष्कासन

कहानी-संग्रह : सपाट चेहरे वाला आदमी, सुखान्त, प्रेमकथा का अन्त न कोई, माई का शोकगीत, धर्मक्षेत्रे कुरुक्षेत्रे

आख्यान : नमो अंधकार लम्बी कहानी

नाटक : यमगाथा

कविता-संग्रह : अपनी शताब्दी के नाम, एक और भी आदमी है

लम्बी कविता : सुरंग से लौटते हुए (लम्बी कविता);

संस्मरण :  निराला:आत्महन्ता आस्था (निराला की कविताओं पर एक सम्पूर्ण किताब); लौट आ, ओ धार

साक्षात्कार/निबंध : कहा-सुनी

संपादन : दो शरण (निराला की भक्ति कविताएँ), तारापथ (सुमित्रानंदन पंत की कविताओं का चयन), एक शमशेर भी है, भुवनेश्वर समग्र, पक्षधर (पत्रिका - आपात काल के दौरान एक अंक का संपादन, जिसे सरकार द्वारा जब्त कर लिया गया था)

[भारत-दर्शन]

Author's Collection

Total Number Of Record :1

एक आँख वाला इतिहास

मैंने कठैती हड्डियों वाला एक हाथ देखा--
रंग में काला और धुन में कठोर ।

मैंने उस हाथ की आत्मा देखी--
साँवली और कोमल
और कथा-कहानियों से भरपूर !

मैंने पत्थरों में खिंचा
सन्नाटा देखा
जिसे संस्कृति कहते हैं ।

मैंने एक आँख वाला
...

More...
Total Number Of Record :1

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश