समस्त भारतीय भाषाओं के लिए यदि कोई एक लिपि आवश्यक हो तो वह देवनागरी ही हो सकती है। - (जस्टिस) कृष्णस्वामी अय्यर

मैं जिसे ओढ़ता -बिछाता हूँ | दुष्यंत कुमार

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 दुष्यंत कुमार | Dushyant Kumar

मैं जिसे ओढ़ता -बिछाता हूँ
वो गज़ल आपको सुनाता हूँ।

एक जंगल है तेरी आँखों में
मैं जहाँ राह भूल जाता हूँ

तू किसी रेल सी गुजरती है
मैं किसी पुल -सा थरथराता हूँ

हर तरफ़ एतराज़ होता है
मैं अगर रोशनी में आता हूँ

एक बाजू उखड़ गया जब से
और ज़्यादा वज़न उठाता हूँ

मैं तुझे भूलने की कोशिश में
आज कितने करीब पाता हूँ

कौन ये फासला निभाएगा,
मैं फ़रिश्ता हूँ सच बताता हूँ

- दुष्यंत कुमार

#

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें