हिंदी का पौधा दक्षिणवालों ने त्याग से सींचा है। - शंकरराव कप्पीकेरी

पुराने ख़्वाब के फिर से | ग़ज़ल

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 कृष्ण सुकुमार | Krishna Sukumar

पुराने ख़्वाब के फिर से नये साँचे बदलती है
सियासत रोज़ अपने खेल में पाले बदलती है

हम ऐसे मोड़ पर आ कर अचानक टूट जाते हैं
जहाँ से ज़िन्दगी अपने कई रस्ते बदलती है

हमेशा एक सा चेहरा बहुत कम लोग रखते हैं
यहाँ इंसान की फ़ितरत कई चेहरे बदलती है

हवा में भीगते हैं बारिशों में सूख जाते हैं
मुहब्बत मौसमों का रूख़ सलीक़े से बदलती है

हमे ग़ुरबत से बाहर आने का मौक़ा नहीं मिलता
कोई साज़िश हमारे घर के दरवाज़े बदलती है

- कृष्ण सुकुमार
153-ए/8, सोलानी कुंज,
भारतीय प्रौद्योकी संस्थान
रुड़की- 247 667 (उत्तराखण्ड)

 

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश