समस्त भारतीय भाषाओं के लिए यदि कोई एक लिपि आवश्यक हो तो वह देवनागरी ही हो सकती है। - (जस्टिस) कृष्णस्वामी अय्यर

किसका नौकर कौन?

 (बाल-साहित्य ) 
Print this  
रचनाकार:

 अकबर बीरबल के किस्से

बादशाह अकबर और उनके बीरबल जब कभी भी अकेले होते तो किसी न किसी बात पर चर्चा करते ही रहते। एक दिन बादशाह अकबर बैंगन की खूब तारीफ़ करने लगे। 

बीरबल भी बादशाह की हाँ में हाँ मिलाते गए।  वह खुद भी अपनी तरफ से भी बैंगन की तारीफ़ में कुछ न कुछ जोड़ देते।  

अचानक बादशाह अकबर के दिल में बीरबल की परीक्षा की सूझी। बादशाह बैंगन की बुराई करने लगे। चतुर बीरबल बादशाह की मंशा समझ गए। बीरबल फिर उनकी हाँ में हाँ मिलाने लगे।  बैंगन खाने से होने वाली हानियाँ गिनाने लगे, इससे कितनी शारीरिक बीमारियाँ हो जाती हैं, इत्यादि।

बीरबल की बात सुनकर बादशाह हैरान हो गए और बोले- “बीरबल! तुम्हारी इस बात का यकीन नहीं किया जा सकता। कभी तुम बैंगन की तारीफ करते हो और कभी बुराई। जब हमने इसकी तारीफ़ की तो तुमने भी इसकी तारीफ़ की और जब हमने इसकी बुराई की तो तुमने भी इसकी बुराई की। आखिर माजरा क्या है?"

बीरबल ठहरे हाजिरजवाब, झट से अपने लहजे में उत्तर दिया- “बादशाह सलामत! मैं आपका नौकर हूँ,  बैंगन का नहीं!”

[भारत-दर्शन संकलन]

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें