राष्ट्रीय एकता की कड़ी हिंदी ही जोड़ सकती है। - बालकृष्ण शर्मा 'नवीन'

यहीं धरा रह जाए सब | भजन

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 रोहित कुमार 'हैप्पी' | न्यूज़ीलैंड

प्राण पंछी उड़ जाए जब, यहीं धरा रह जाए सब
यही सिकंदर मिला धूल में
और बुद्ध को निर्वाण मिला।
प्राण पंछी उड़ जाए जब, यहीं धरा रह जाए सब।।

खुद को बहुत सयाना समझे
सब को ठगता फिरता है
इतनी भी क्या अक्ल नहीं
हर जीवित इक दिन मरता है
प्राण पंछी उड़ जाए जब, यहीं धरा रह जाए सब।।

ये संगी-साथी प्यारे सब
जीवन में साथी हैं तेरे
प्राण पखेरू उड़ते जब
सफर अकेले होता तब
प्राण पंछी उड़ जाए जब, यहीं धरा रह जाए सब।।

बस काम किया आराम किया
विद्या पायी और नाम किया
डर लगा मौत का जब तुझको
तब जा ईश्वर का नाम लिया।
प्राण पंछी उड़ जाए जब, यहीं धरा रह जाए सब।।

तू बना 'लेवता' ले-ले कर
न हुआ 'देवता' कुछ देकर
अब नाव भंवर में अटक गई
तू पार लगा खुद खे इसको।
प्राण पंछी उड़ जाए जब, यहीं धरा रह जाए सब।।

-रोहित कुमार 'हैप्पी'
 न्यूज़ीलैंड

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश