विदेशी भाषा के शब्द, उसके भाव तथा दृष्टांत हमारे हृदय पर वह प्रभाव नहीं डाल सकते जो मातृभाषा के चिरपरिचित तथा हृदयग्राही वाक्य। - मन्नन द्विवेदी।
आज के दोहे  (काव्य)    Print this  
Author:रोहित कुमार 'हैप्पी' | न्यूज़ीलैंड

हमने चुप्पी तान ली, नहीं करेंगे जंग ।
फिर भी दुनिया ना हटे, करती रहती तंग ।। 

तेरे मेरे रास्ते,  हैं बिल्कुल ही भिन्न ।
तू ‘जी-जी' करता रहे, मुझको इस से घिन्न ।।

हम को समझ न आ सके, इक-दूजे की बात ।
तुम व्यापारी हो भले,  मैं लेखक की जात ।।

ऑंखें अपनी मींच ले, मुँह से बोल न बोल ।
रिश्तों का अब तो यहाँ, यही बचा है मोल ।।

मैं तो मरजी जो करूँ, तुझे नहीं अधिकार ।
मुँह पर ताला डाल ले, बचा रहेगा प्यार ।।

‘रोहित' इस संसार में, किसको किससे प्रेम ।
हर कोई अब खेलता, अपनी-अपनी ‘गेम' ।।


- रोहित कुमार ‘हैप्पी'
  दिसंबर, २०१७

 

Previous Page  |  Index Page
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें