अपनी सरलता के कारण हिंदी प्रवासी भाइयों की स्वत: राष्ट्रभाषा हो गई। - भवानीदयाल संन्यासी।
सीता का हरण होगा (काव्य)    Print  
Author:उदयभानु हंस | Uday Bhanu Hans
 

कब तक यूं बहारों में पतझड़ का चलन होगा?
कलियों की चिता होगी, फूलों का हवन होगा ।

हर धर्म की रामायण युग-युग से ये कहती है,
सोने का हरिण लोगे, सीता का हरण होगा ।

जब प्यार किसी दिल का पूजा में बदल जाए,
हर पल आरती होगी, हर शब्द भजन होगा ।

जीने की कला हम ने सीखी है शहीदों से,
होठों पे ग़ज़ल होगी जब सिर पे कफन होगा ।

इस रूप की बस्ती में क्या माल खरीदोगे?
पत्थर के हृदय होंगे, फूलों का बदन होगा ।

यमुना के किनारे पर जो दीप भी जलता है,
वो और नही कुछ भी, राधा का नयन होगा ।

जीवन के अँधेरे में हिम्मत न कभी हारो,
हर रात की मुट्ठी में सूरज का रतन होगा ।

सत्ता के लिए जिन का ईमान बिकाऊ है,
उन के ही गुनाहों से भारत का पतन होगा ।

मज़दूर के माथे का कहता है पसीना भी,
महलों में प्रलय होगी, कुटिया में जशन होगा ।

इस देश की लक्ष्मी को लूटेगा कोई कैसे?
जब शत्रु की छाती पर अंगद का चरण होगा ।

विज्ञान के भक्तों को अब कौन ये समझाए,
वरदानों से अपने ही दशरथ का मरण होगा ।

कहना है सितारों का, अब दूर नहीं वो दिन,
कुछ ऊँची धरा होगी, कुछ नीचे गगन होगा ।

इन्सान की सूरत में जब भेडिये फिरते हों,
फिर 'हंस' कहो कैसे दुनिया में अमन होगा?

- उदयभानु 'हंस', राजकवि हरियाणा
[साभार-दर्द की बांसुरी [ग़ज़ल संग्रह]

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश