साहित्य का स्रोत जनता का जीवन है। - गणेशशंकर विद्यार्थी।
शब्द वन्देमातरम् (काव्य)    Print  
Author:भारत-दर्शन संकलन | Collections
 

फ़ैला जहाँ में शोर मित्रो! शब्द वन्देमातरम्।
हिंद हो या मुसलमान सब कहते वन्देमातरम्॥

उत्पन्न हुये इस भूमि पर धर्म का रक्षण करो।
नीति धुरंधर तिलक ने उच्चारा वन्देमातरम्॥

स्वराज्य का बीड़ा उठाया, महात्मा श्री गाँधीने।
सत्य का शस्त्र सम्हाला कह करके वन्देमातरम्॥

मौलाना महमद अली शौकत अली इन्साफखुद।
लाला लाजपतराय भरते नारा वन्देमातरम्॥

कौंसील में मत बैठिये शाही नौकरी छोड़ दो।
बालक जनाना वृद्ध लोको कहदो वन्देमातरम्॥

- अज्ञात

 

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें