इस विशाल प्रदेश के हर भाग में शिक्षित-अशिक्षित, नागरिक और ग्रामीण सभी हिंदी को समझते हैं। - राहुल सांकृत्यायन।
मैं दिल्ली हूँ | तीन (काव्य)    Print  
Author:रामावतार त्यागी | Ramavtar Tyagi
 

गूंजी थी मेरी गलियों में, भोले बचपन की किलकारी ।
छूटी थी मेरी गलियों में, चंचल यौवन की पिचकारी ॥

सावन मेरे गलियारों में, झूले पर बैठा आता था ।
फागुन मेरे बागीचों में, मदमस्त जवानी लाता था ॥

सूरज की हर मासूम किरण, आकर मुझको दुलराती थी ।
आती थी रात सितारों के, गज़रे मुझको पहनाती थी ॥

खुशियाँ हर ओर विचरती थीं, सुख भीतर था सुख; बाहर था ।
मेरे घर छोटे और बड़े, सबका सम्मान बराबर था ॥

मेरा स्वामी था धर्म, पढ़ाया था मुझको सच्चाई ने ।
मुझको भाषा सिखलाई थी, 'दिल' जैसे प्यारे भाई ने ॥

संगीत मुझे दुलराता था, गीतों ने मुझे जवानी दी ।
कविता ने मुझको न्याय, कला ने जीवन भरी निशानी दी ॥

संघर्षों की रामायण हूँ, उस 'कीली' की हम जोली में ।
जो लोहे वाली लाट गढ़ी है, अब तक भी महरौली में ॥

यह सही कि इसको मुझे, बसाने वाले ने गढ़वाया था ।
गढ़वाकर कीली मुझे अमर, रखने का बीड़ा खाया था ॥

- रामावतार त्यागी

 

Back
 
 
Post Comment
 
  Captcha
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश