हिंदी के पुराने साहित्य का पुनरुद्धार प्रत्येक साहित्यिक का पुनीत कर्तव्य है। - पीताम्बरदत्त बड़थ्वाल।
व्यंग्य
हिंदी व्यंग्य. Hindi Satire.

Articles Under this Category

कुछ नहीं होने की पीड़ा - लतीफ़ घोंघी

कुछ नहीं हुआ। कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। नगर शांत रहा। इन सभी स्थितियों से वे दुःखी थे। उनके चेहरे पर कुछ नहीं होने की पीड़ा थी।
...

भेजो - नरेन्द्र कोहली

"हुजूर! ख़बर आई है कि हमारे लोगों ने भारतीय कश्मीर में पच्चीस हिंदू तो मार ही दिए हैं। ज़्यादा हों तो भी कुछ कहा नहीं जा सकता। उन्होंने दो-दो साल के बच्चे भी मार गिराए हैं।”
...

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश