हिंदी चिरकाल से ऐसी भाषा रही है जिसने मात्र विदेशी होने के कारण किसी शब्द का बहिष्कार नहीं किया। - राजेंद्रप्रसाद।
गीत

गीतों में प्राय: श्रृंगार-रस, वीर-रस व करुण-रस की प्रधानता देखने को मिलती है। इन्हीं रसों को आधारमूल रखते हुए अधिकतर गीतों ने अपनी भाव-भूमि का चयन किया है। गीत अभिव्यक्ति के लिए विशेष मायने रखते हैं जिसे समझने के लिए स्वर्गीय पं नरेन्द्र शर्मा के शब्द उचित होंगे, "गद्य जब असमर्थ हो जाता है तो कविता जन्म लेती है। कविता जब असमर्थ हो जाती है तो गीत जन्म लेता है।" आइए, विभिन्न रसों में पिरोए हुए गीतों का मिलके आनंद लें।

Articles Under this Category

तू, मत फिर मारा मारा - रबीन्द्रनाथ टैगोर | Rabindranath Tagore

निविड़ निशा के अन्धकार में
जलता है ध्रुव तारा
अरे मूर्ख मन दिशा भूल कर
मत फिर मारा मारा--
तू, मत फिर मारा मारा।
...

मैं सबको आशीष कहूँगा - नरेन्द्र दीपक

मेरे पथ में शूल बिछाकर दूर खड़े मुस्कानेवाले
दाता ने सम्बन्धी पूछे पहला नाम तुम्हारा लूँगा।
...

बटोही, आज चले किस ओर? - भगवद्दत्त ‘शिशु'

नहीं क्या इसका तुमको ज्ञान,
कि है पथ यह कितना अनजान?
चले इस पर कितने ही धीर,
हुए चलते-चलते हैरान।
     न पाया फिर भी इसका छोर।
     चले हो अरे, आज किस ओर?
चले इस पर कितने ही संत,
किसी को मिला ना इसका अंत।
अलापा नेति-नेति का राग,
     न पाया फिर भी इसका छोर।
     चले हो अरे, आज किस ओर?
अरे, है अगम सत्य की शोध,
बुद्ध औ' राम कृष्ण से देव,
चले इस पद पर जीवन हार,
न पाया फिर भी इसका पार।
      बटोही, साहस को झकझोर -
      बढ़े जाते फिर भी उस ओर!
...

दो पल को ही गा लेने दो - शिवशंकर वशिष्ठ

दो पल को ही गा लेने दो।
गाकर मन बहला लेने दो !
कल तक तो मिट जाना ही है;
तन मन सब लुट जाना ही है ;
लेकिन लुटने से पहले तो--
अपना रंग जमा लेने दो ।
दो पल को ही गा लेने दो।
गाकर मन बहला लेने दो !
...

परिवर्तन | गीत - ताराचन्द पाल 'बेकल'

भूख, निराशा, बेकारी का कटता जाए हर बन्धन।
गायक ऐसा गीत सुनाओ जग में आप परिवर्तन॥
...

भारत-दर्शन रोजाना

Bharat-Darshan Rozana

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें