हिंदी समस्त आर्यावर्त की भाषा है। - शारदाचरण मित्र।

मीरा के पद - Meera Ke Pad

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 मीराबाई | Meerabai

दरद न जाण्यां कोय

हेरी म्हां दरदे दिवाणी म्हारां दरद न जाण्यां कोय।
घायल री गत घाइल जाण्यां, हिवडो अगण संजोय।
जौहर की गत जौहरी जाणै, क्या जाण्यां जिण खोय।
दरद की मार्यां दर दर डोल्यां बैद मिल्या नहिं कोय।
मीरा री प्रभु पीर मिटांगां जब बैद सांवरो होय॥

- मीरा

#

Back
More To Read Under This
अब तो हरि नाम लौ लागी | पद
राम रतन धन पायो | मीराबाई के पद
हरि बिन कछू न सुहावै | मीरा के पद
झूठी जगमग जोति | मीरा के पद
अब तो मेरा राम | मीरा के पद
म्हारे तो गिरधर गोपाल | मीरा के पद
रंग भरी राग | मीरा के पद
फागुन के दिन चार | मीरा के पद
Posted By ALOK VERMA   on Wednesday, 20-Jul-2016-07:47
GOOD
Posted By sai   on Sunday, 15-Nov-2015-10:19
good
Posted By kashvi   on Saturday, 14-Nov-2015-12:44
Very nice site it gives me every information I required.
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें