यह कैसे संभव हो सकता है कि अंग्रेजी भाषा समस्त भारत की मातृभाषा के समान हो जाये? - चंद्रशेखर मिश्र।
अकेला चल | रबीन्द्रनाथ टैगोर की कविता (काव्य)    Print this  
Author:रबीन्द्रनाथ टैगोर | Rabindranath Tagore

अनसुनी करके तेरी बात, न दे जो कोई तेरा साथ
तो तुही कसकर अपनी कमर अकेला बढ़ चल आगे रे।
अरे ओ पथिक अभागे रे।

अकेला चल, अकेला चल, अकेला ही चल आगे रे॥
देखकर तुझे मिलन की बेर, सभी जो लें अपने मुख फेर
न दो बातें भी कोई करे, सभय हो तेरे आगे रे,
अरे ओ पथिक अभागे रे।

तो अकेला ही तू जी खोल सुरीले मन मुरली के बोल
अकेला गा--अकेला सुन, अरे ओ पथिक अभागे रे
अकेला ही चल आगे रे॥

जायं जो तुझे अकेला छोड़, न देखें मुड़ कर तेरी ओर,
बोझ ले सिर पर जब बढ़ चले गहन पथ में तू आगे रे
अरे ओ पथिक अभागे रे।

तो तुही पथ के कण्टक क्रूर, अकेला कर भय संशय दूर,
पैर के छालों से कर चूर--अरे ओ पथिक अभागे रे,
अकेला हो चल आगे रे।

और सुन तेरी करुण पुकार, अँधेरी पावस निशि में, द्वार
न खोले ही, न दिखावें दीप, न कोई भी जो जागे रे
अरे ओ पथिक अभागे रे।

तो तुही वज्रानल में हाल जलाकर अपना उर-कंकाल
अकेला जलता रह चिरकाल अरे ओ पथिक अभागे रे
अकेला ही चल आगे रे
अकेला चल, अकेला चल, अकेला ही चल आगे रे।

-रबीन्द्रनाथ टैगोर
[भावानुवाद : रघुवंशलाल गुप्त]

*रवीन्द्रनाथ के 'एकला चल; गान का भावानुवाद

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश