हिंदी भाषा को भारतीय जनता तथा संपूर्ण मानवता के लिये बहुत बड़ा उत्तरदायित्व सँभालना है। - सुनीतिकुमार चाटुर्ज्या।

यह बता : एक प्रश्न (काव्य)

Print this

Author: महेश भागचन्दका

तेरे पास क्या है
इससे जहाँ को सरोकार नहीं
तूने जहाँ के लिए किया क्या-- 'यह बता '
तू जी रहा है और जिए जाएगा, मगर
जाने से पहले क्या कर जाएगा-- 'यह बता '
जीवन का श्वासों से
श्वासों का क्रम से है इक नाता
इसके टूटने को बचा पाएगा क्या-- 'यह बता '
इतराना तेरी नहीं समय की ताक़त है
समय बदला तो क्या तू इतरा पाएगा-- 'यह बता
हम अपनी हस्ती को साथ लिये घूमते हैं
मस्ती में चूर हम जहाँ को भूलते हैं
ठुकराना हमारी आदत सी हो गई है
पर जहाँ की इक ठोकर को
हममें से कोई भी क्या सँभाल पाएग-- 'यह बता '

-महेश भागचन्दका
(बोलती अनुभूतिया, प्रभात प्रकाशन)

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश