हिंदी भाषा अपनी अनेक धाराओं के साथ प्रशस्त क्षेत्र में प्रखर गति से प्रकाशित हो रही है। - छविनाथ पांडेय।

पैसा (काव्य)

Print this

Author: डॉ. परमजीत ओबराय

पैसे के पीछे -
मनुष्य भाग रहा ऐसे,
पकड़म-पकड़ाई का खेल –
खेल रहा हो जैसे।

पुकार रहा –
उसे,
आ-आ छू ले मुझे।
सुन उसकी ललकार-
मानव है,
पाने को उसे बेकरार।

करता जबकि यही-
भेदभाव,
सम्बन्धों का बन रहा-
आज यही आधार।

अपने लगने लगे-
सब इसके,
समक्ष अब पराए।

संसार से आगे-
साथ न यह,
दे पाए।

माना पैसा ज़रूरी है-
जीने के लिए,
पर सब कुछ नहीं है-
यह हमारे लिए।

-डॉ. परमजीत ओबराय

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें