इस विशाल प्रदेश के हर भाग में शिक्षित-अशिक्षित, नागरिक और ग्रामीण सभी हिंदी को समझते हैं। - राहुल सांकृत्यायन।

पैसा (काव्य)

Print this

Author: डॉ. परमजीत ओबराय

पैसे के पीछे -
मनुष्य भाग रहा ऐसे,
पकड़म-पकड़ाई का खेल –
खेल रहा हो जैसे।

पुकार रहा –
उसे,
आ-आ छू ले मुझे।
सुन उसकी ललकार-
मानव है,
पाने को उसे बेकरार।

करता जबकि यही-
भेदभाव,
सम्बन्धों का बन रहा-
आज यही आधार।

अपने लगने लगे-
सब इसके,
समक्ष अब पराए।

संसार से आगे-
साथ न यह,
दे पाए।

माना पैसा ज़रूरी है-
जीने के लिए,
पर सब कुछ नहीं है-
यह हमारे लिए।

-डॉ. परमजीत ओबराय

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश