विदेशी भाषा के शब्द, उसके भाव तथा दृष्टांत हमारे हृदय पर वह प्रभाव नहीं डाल सकते जो मातृभाषा के चिरपरिचित तथा हृदयग्राही वाक्य। - मन्नन द्विवेदी।
 
संवाद | लघु-कथा (कथा-कहानी)     
Author:रोहित कुमार 'हैप्पी'

पिंजरे में बंद दो सफ़ेद कबूतरों को जब भारी भरकम लोगों की भीड़ के बीच लाया गया तो वे पिंज़रे की सलाखों में सहम कर दुबकते जा रहे थे। फिर, दो हाथों ने एक कबूतर को जोर से पकड़ कर पिंज़रे से बाहर निकालते हुए दूसरे हाथों को सौंप दिया। मारे दहशत के कबूतर ने अपनी दोनों आँखे भींच ली थी। समारोह के मुख्य अतिथि ने बारी-बारी से दोनों कबूतर उड़ाकर समारोह की शुरूआत की। तालियों की गड़गड़ाहट ज़ोरों पर थी।

एक झटका सा लगा फिर उस कबूतर को अहसास हुआ कि उसे तो पुन उन्मुक्त गगन में उड़ने का अवसर मिल रहा है। वह गिरते-गिरते संभल कर जैसे-तैसे उड़ चला। उसकी खुशी का ठिकाना न रहा जब बगल में देखा कि दूसरा साथी कबूतर भी उड़कर उसके साथ आ मिला था। दोनों कबूतर अभी तक सहमें हुए थे। उनकी उड़ान सामान्य नहीं थी।

थोड़ी देर में सामान्य होने पर उड़ान लेते-लेते एक ने दूसरे से कहा, "आदमी को समझना बहुत मुश्किल है। पहले हमें पकड़ा, फिर छोड़ दिया! यदि हमें उड़ने को छोड़ना ही था तो पकड़ कर इतनी यातना क्यों दी? मैं तो मारे डर के बस मर ही चला था।"

"चुप, बच गए ना आदमी से! बस उड़ चल!"

- रोहित कुमार 'हैप्पी'

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश