विदेशी भाषा में शिक्षा होने के कारण हमारी बुद्धि भी विदेशी हो गई है। - माधवराव सप्रे।
 
एक ठहरी हुई उम्र | सुशांत सुप्रिय की कविता (काव्य)       
Author:सुशांत सुप्रिय

मैं था तब इक्कीस का
और वह थी अठारह की

हाथी-दाँत-सा उजला था उसका मन
और मैं चाहता था
बाँध लेना उसकी छाया को भी

लपट भरा एक फूल थी वह
और मैं चाहता था
उस की ख़ुशबू की आँच में जल जाना

मैं था तब इक्कीस का
और वह थी अठारह की
जब एक दिन असमय ही
सड़क-दुर्घटना में चल बसी वह
रह गई वह अठारह की ही
सदा के लिए

आज हूँ मैं छियालीस का
पर वह अब भी है अठारह की ही

मेरी आँखों में अटका
एक अनमोल आँसू है वह
मेरी वाणी में बंद
एक सुरीला गीत है वह
मेरी मिट्टी में बची रह गई
एक हरी जड़ है वह
मेरी स्मृति के मंदिर में मौजूद
एक देवी-प्रतिमा है वह

आज हूँ मैं छियालीस का
पर वह अब भी है अठारह की ही

उसकी ठहरी हुई उम्र की स्मृति को
हर पल जी रहा हूँ मैं


- सुशांत सुप्रिय
 मार्फ़त श्री एच.बी. सिन्हा
 5174 , श्यामलाल बिल्डिंग ,
 बसंत रोड,( निकट पहाड़गंज ) ,
 नई दिल्ली - 110055
मो: 9868511282 / 8512070086
ई-मेल : sushant1968@gmail.com

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश