विदेशी भाषा में शिक्षा होने के कारण हमारी बुद्धि भी विदेशी हो गई है। - माधवराव सप्रे।
 
आओ होली खेलें संग (काव्य)       
Author:रोहित कुमार 'हैप्पी' | न्यूज़ीलैंड

कही गुब्बारे सिर पर फूटे
पिचकारी से रंग है छूटे
हवा में उड़ते रंग
कहीं पर घोट रहे सब भंग!

बुरा ना मानो होली है
हाँ जी, हाँ जी, होली है
करते बच्चे-बूढ़े तंग
बताओ कैसा है ये ढंग?

भाग रहा है आज कन्हैया
नहीं बचा पाएगी मैय्या 
गोपियां जीत जाएंगी जंग
मलेंगी जी भर उसको रंग।  

कहीं पिट रहे आज गोपाला
बुरा पड़ा गोरी से पाला
रो रहे देख के सभी मलंग
दूर कहीं बाजे है मृदंग।  

गली-गली में हुई ठिठोली
आई होली, आई होली
मचा अब मस्ती का हुडदंग
कि आओ होली खेलें संग!

--रोहित कुमार 'हैप्पी'

 

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश