हृदय की कोई भाषा नहीं है, हृदय-हृदय से बातचीत करता है। - महात्मा गांधी।
 
प्रेमचंद की लघुकथाएं (कथा-कहानी)       
Author:मुंशी प्रेमचंद | Munshi Premchand

प्रेमचंद के लघुकथा साहित्य की चर्चा करें तो प्रेमचंद ने लघु आकार की विभिन्न कथा-कहानियां रची हैं। इनमें से कुछ लघु-कथा के मानक पर खरी उतरती है व अन्य लघु-कहानियां कही जा सकती हैं। प्रेमचंद की लघु-कथाओं में - कश्मीरी सेब, राष्ट्र का सेवक, देवी, बंद दरवाज़ा, व बाबाजी का भोग प्रसिद्ध हैं। यह पृष्ठ प्रेमचंद की लघु-कथाओं को समर्पित है।

प्रेमचंद की लघुकथाओं के बारे में अधिक जानने के लिए लघुकथाकार बलराम अग्रवाल का महत्वपूर्ण आलेख,'प्रेमचंद की लघु कथा रचनाएं' पढ़ें।

 

Back
More To Read Under This

 

बंद दरवाजा
राष्ट्र का सेवक
देवी
कश्मीरी सेब | लघु-कथा
बाबाजी का भोग
यह भी नशा, वह भी नशा
गुरु मंत्र
जादू | प्रेमचंद की लघुकथा
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश