देश तथा जाति का उपकार उसके बालक तभी कर सकते हैं, जब उन्हें उनकी भाषा द्वारा शिक्षा मिली हो। - पं. गिरधर शर्मा।
 
देश के लाल - लाल बहादुर शास्त्री (कथा-कहानी)       
Author:भारत-दर्शन संकलन | Collections

एक छोटा बालक अपने साधियों के साथ गंगा नदी के पार मेला देखने गया। शाम को वापस लौटते समय जब सभी दोस्त नदी किनारे जाने लगे तो उस बालक को आभास हुआ कि उसके पास नाव के किराये के लिए पैसे नहीं हैं। उसने अपने साथियों से कहा कि वह थोड़ी देर और मेला देखेगा और बाद में आएगा। स्वाभिमानी बालक को किसी से नाव का किराया मांगना स्वीकार्य न था।

जब अन्य बच्चे नाव में सवार हो नदी पार जा चुके और उनकी नाव आँखों से ओझल हो गई तब इस बालक ने अपने कपड़े उतार उन्हें सिर पर लपेट लिया और नदी में तैरने को उतर गया। उस समय नदी उफान पर थी।

पानी का बहाव तेज़ था और नदी भी काफी गहरी थी। रास्ते में एक नाव वाले ने उसे अपनी नाव में सवार होने के लिए कहा लेकिन वह लड़का न रुका, और तैरता हुआ दूसरे छोर पर जा पहुँचा। यह स्वाभमानी बालक था 'लालबहादुर शास्त्री'।

[ भारत-दर्शन संकलन ]

 

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश