विदेशी भाषा में शिक्षा होने के कारण हमारी बुद्धि भी विदेशी हो गई है। - माधवराव सप्रे।
 
प्राण रहते (काव्य)       
Author:भवानी प्रसाद मिश्र | Bhawani Prasad Mishra

प्राण रहते
चाहता हूँ ओंठ पर नित गान रहते
भाग्य का यह चक्र फिरता या न फिरता
नभ बरसता फूल अथवा गाज गिरता
जय-पराजय में अगर हम शीस उन्नत नष्ट शंका
वज्र पुष्प समान सहते !
प्राण रहते !!

कठिन क्षण में सहज गति होती हमारी
और धीरज मति नहीं खोती हमारी
प्रलय-पारावार वीचि-विलास होता
ढंग से पतवार चलती
जलधि-भर जलयान बहते !
प्राण रहते !!

लोग देते साथ अथवा छोड़ देते
किन्तु हम नाता प्रलय से जोड़ लेते
हाथ मानो पकड़कर तूफ़ान का हम
बढ़ रही हर लहर को सोपान कहते !
प्राण रहते !!

- भवानी प्रसाद मिश्र

[20 दिसंबर 1947]

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश