कैसे निज सोये भाग को कोई सकता है जगा, जो निज भाषा-अनुराग का अंकुर नहिं उर में उगा। - हरिऔध।
 
जल, रे दीपक, जल तू (काव्य)       
Author:मैथिलीशरण गुप्त | Mathilishran Gupt

जल, रे दीपक, जल तू।
जिनके आगे अँधियारा है, उनके लिए उजल तू॥

जोता, बोया, लुना जिन्होंने,
श्रम कर ओटा, धुना जिन्होंने,
बत्ती बँटकर तुझे संजोया, उनके तप का फल तू।
जल, रे दीपक, जल तू॥

अपना तिल-तिल पिरवाया है,
तुझे स्नेह देकर पाया है,
उच्च स्थान दिया है घर में, रह अविचल झलमल तू।
जल, रे दीपक, जल तू॥

चूल्हा छोड़ जलाया तुझको,
क्या न दिया, जो पाया, तुझको,
भूल न जाना कभी ओट का, वह पुनीत अँचल तू।
जल, रे दीपक, जल तू॥

कुछ न रहेगा, रबात हेगी,
होगा प्रात, न रात रहेगी,
सब जागें तब सोना सुख से तात, न हो चंचल तू।
जल, रे दीपक, जल तू॥

--मैथिलीशरण गुप्त

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश