हृदय की कोई भाषा नहीं है, हृदय-हृदय से बातचीत करता है। - महात्मा गांधी।
 
घर (काव्य)       
Author:अनिल जोशी | Anil Joshi

शाम होते ही
वो कौन-से रास्ते हैं, जिन पर मैं चल पड़ता हूँ
वो किसके पैरों के निशान हैं, जिनका मैं पीछा करता हूँ
इन रास्तों पर कौन सी मादा महक है
किन बिल्लियों की चीख की कोलाहल की प्रतिध्वनियां
गूंजती है कानों में
लौटते हुए रास्ते में पहचाने हुए यात्री
ना सुखी, ना दुखी, ना प्रसन्न, ना उदास
सिर्फ एक होने भर का भाव
वाहनों से उतर अपने-अपने रास्ते पकड़ लेते हैं,
किसका पीछा करते हुए आ गया हूँ मैं
घर के दरवाजे पर खड़ा दस्तक देता हूँ
एक लैंडस्केप को अपने विशिष्ट आकार और रंग से भरने के लिए।

- अनिल जोशी
   उपाध्यक्ष, केंद्रीय हिंदी शिक्षण मंडल  
   शिक्षा मंत्रालय, भारत

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश