हिंदी भाषा अपनी अनेक धाराओं के साथ प्रशस्त क्षेत्र में प्रखर गति से प्रकाशित हो रही है। - छविनाथ पांडेय।
 
स्वयं से  (काव्य)       
Author:रोहित कुमार 'हैप्पी' | न्यूज़ीलैंड

आजकल
तुम
धीमा बोलने लगी
या
मुझे
सुनाई देने लगा
कम?

आजकल
तुम्हारी आवाज
सुनाई नहीं देती!

कहते हैं-
आत्मा
दिखाई नहीं देती।

- रोहित कुमार ‘हैप्पी'

 

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश