देश तथा जाति का उपकार उसके बालक तभी कर सकते हैं, जब उन्हें उनकी भाषा द्वारा शिक्षा मिली हो। - पं. गिरधर शर्मा।
 
मुझे देखा ही नहीं  (काव्य)       
Author:प्रीता व्यास | न्यूज़ीलैंड

देखतीं है आँखें बहुत कुछ
ज़मीं, आसमान, सड़कें, पुल, मकान
पेड़, पौधे, इंसान
हाथ, पैर, मुहं, आँख, कान
आँसू, मुस्कान
मगर खुली आँखों भी
अनदेखा रह जाता है बहुत कुछ
पैरों तले की घंसती ज़मीन
सर पर टूटता आसमान
ढहता हुआ सेतु
बढती दरम्यानी दूरियां
घर का घर ही ना रहना
ये कुछ भी
नहीं देख पाती आँखें
तुमने जो भर-भर नयन
मुझे देखा है
दरअसल
मुझे देखा ही नहीं।

-प्रीता व्यास
 न्यूज़ीलैंड

 

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश