विदेशी भाषा में शिक्षा होने के कारण हमारी बुद्धि भी विदेशी हो गई है। - माधवराव सप्रे।
 
एकता का बल (काव्य)       
Author:रोहित कुमार 'हैप्पी' | न्यूज़ीलैंड

न्यूज़ीलैंड!
कठिन घड़ी में
दिखा दिया
तुमने,
‘एकता का बल'।
रह गया
हमलावर
दिल मसोस,
हाथ मल-
निःसंदेह विफल!

-रोहित कुमार ‘हैप्पी', न्यूज़ीलैंड

[ 15 मार्च 2019 को न्यूज़ीलैंड के क्राइस्टचर्च नगर में हुए आतंकी हमले में 50 निर्दोष लोग मारे - उन्हीं को समर्पित यह रचना]

 

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश