विदेशी भाषा में शिक्षा होने के कारण हमारी बुद्धि भी विदेशी हो गई है। - माधवराव सप्रे।
 
देशभक्ति | Poem on New Zealand (काव्य)       
Author:रोहित कुमार 'हैप्पी' | न्यूज़ीलैंड

जब
हर व्यक्ति में
एक ‘देश' बसता हो, तब
हमलावर हार जाता है।

जब
धर्म, जाति या नस्ल
से ऊपर ‘देश' रखा जाता है
तब
सब विविधताएँ भी ‘शक्ति' हैं।

‘एकता में शक्ति है'
यही तो सच्ची
देशभक्ति है।

रोहित कुमार ‘हैप्पी', न्यूज़ीलैंड
[45 लाख की आबादी वाले न्यूज़ीलैंड पर 15 मार्च 2019 को एक आतंकी हमले में 50 निर्दोष लोग मारे गए लेकिन इस कठिन घड़ी में पूरा देश एक हो गया। ]

 

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश