कथा, कहानियां, कविताएं : भारत-दर्शन | Hindi Stories - Hindi Poems
नागरी प्रचार देश उन्नति का द्वार है। - गोपाललाल खत्री।

Archive of मई-जून 2023 Issue

मई-जून 2023

न्यूज़ीलैंड से प्रकाशित हिंदी पत्रिका, 'भारत-दर्शन' से जुड़ें  : फेसबुक  - ट्विटर

सदैव की भांति इस अंक में भी  'कथा-कहानी' के अंतर्गत कहानियाँलघु-कथाएं व बाल कथाएं प्रकाशित की गई हैं। इस अंक के काव्य  में सम्मिलित है - कविताएंदोहेभजनबाल-कविताएंहास्य कविताएं व गज़ल

मई-जून का यह अंक आपको भेंट।

लबों पर उसके कभी बददुआ नहीं होती
बस एक माँ है जो कभी ख़फ़ा नहीं होती
                                    -मुन्नवर राना

इस अंक की कहानियों में लियो टोल्स्टोय की कहानी 'कितनी जमीन', विश्‍वंभरनाथ शर्मा कौशिक की 'पत्रकार', 'डॉ विद्या विन्दु सिंह की 'चीनी बाबा', भानु प्रताप शुक्ल की 'जो कभी डाकू था', आराधना झा श्रीवास्तव की 'यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते' सम्मिलित की गई हैं।

लघुकथाओं में इस बार विष्णु प्रभाकर की लघु-कथा, 'अतिथि', रामदरश मिश्र की लघु-कथा, 'राजनीति की संवेदना', डॉ. सतीश राज पुष्करणा की लघुकथा, 'सद्भाव' के अतिरिक्त इमतियाज गदर की दो लघुकथाएं, 'अनेकता का फल' और 'मोक्ष' प्रकाशित की हैं।

लोक-कथाओं में रूस की लोक-कथा 'लोमड़ी और सारस' की लोक-कथा पढ़ें।  

श्रीराम वृक्ष बेनीपुरी की 'विक्रम का सिंहासन' रोचक है। 

इस बार दोहों में भक्ति दोहे, डॉ सुधेश के दोहे और रोहित कुमार हैप्पी के 'माँ पर दोहे' पढ़िए।

कविताओं में प्रभाकर माचवे, ओमप्रकाश वाल्मीकि, मंगत बादल, डॉ सुशील कुमार, महेश भागचन्दका, मदन डागा व बेढब बनारसी की कविताएं पढ़िए।  इनके अतिरिक्त क्षणिकाएँ पढ़ें।

हास्य रस में काका हाथरसी की कविता 'लीडरी का नुस्खा' और प्रदीप चौबे की कविता 'भिखारी' पढ़ें।

बाल साहित्य में बच्चों की कविताएं, पंचतंत्र की कहानी के अतिरिक्त निराला की 'दो घड़े' व 'फ़क़ीर का उपदेश' अन्य कहानियाँ प्रकाशित की गई है।

ग़ज़लों में रामावतार त्यागी, डा. राणा प्रताप सिंह गन्नौरी 'राणा', प्राण शर्मा, उपेन्द्र कुमार की ग़ज़लें पढ़ें। इसके अतिरिक्त माँ पर मुन्नवर राना के अश़आर। 

इस बार गीतों में श्रीधर पाठक, गोपाल सिंह नेपाली, धर्मवीर भारती और अलका जैन के गीत पढ़िए।

व्यंग्य में इस बार लतीफ़ घोंघी का व्यंग्य, 'पूंछ', प्रो. राजेश कुमार का, 'पत्रकार, आज़ादी और हमला' और डॉ सुरेश कुमार मिश्रा उरतृप्त का व्यंग्य, 'हैलो सूरज!' पढ़ें।  

आलेखों में डॉ. वेदप्रताप वैदिक का आलेख 'भारत विश्व-शक्ति कैसे बने', और तड़ित मुखर्जी का आलेख, 'टैगोर - कवि, गीतकार, दार्शनि‍क, कलाकार और शि‍क्षा वि‍शारद' पढ़िए।

गद्य-काव्य में  मुनि नथमल का गद्य गीत 'नींव का पत्थर'। 

भारत-दर्शन का सम्पूर्ण अंक पढ़ें। 


Hindi Story Links: 

Hindi Stories
Hindi Poems

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें